देश मे प्रति दिन लगभग 700 युवा अपराध का दामन थाम लेते हैं !
कारण सिर्फ़ एक बेरोज़गारी, जब तक युवा पार्टियों में बटा रहेगा तब तक बेरोज़गार रहेगा !
NCRB के आकंडो के अनुसार हर, दो घंटे में 3 बेरोज़गार कर रहें हैं खुदकुशी बेरोज़गार युवा किसी भी देश के लिये अपमान की बात हैं !
देश में 6,214 इंजीनियरिंग इंस्टिट्यूट हैं, जिनसे हर साल लगभग 15 लाख युवा पास होते हैं !
लेकिन हर साल केवल 7% युवाओं को रोज़गार मिलता है !
क्या आप अब भी नहीं सोचेंगे !
previous arrow
next arrow
Slider

आजादी अधूरी है , रोजगार जरुरी है!

समस्या
भारत की बहुसंख्यक आबादी आज भी ‘ बेरोज़गारी’ के अंधेरे में दोयम जीवन यापन कर रहे हैं ।
आर्थिक संकटों के चलते देश की बड़ी आबादी को गुणवत्ता पूर्ण जीवन नहीं मिल पाता है।  इसे हम आजादी तो कह सकते है पर “पूर्ण आज़ादी” उस दिन कहलाएगी जब सभी के पास रोज़गार होगा।

समाधान
“निति और योजनाओं में सुधार के द्वारा प्रत्येक नागरिक को रोजगार की गारंटी अन्यथा गरिमापूर्ण जीवन यापन भत्ता मिले 

हम कौन हैं ?

हमें चाहिए रोजगार’ एक गैर-राजनैतिक सामाजिक संगठन है।  भारत के विभिन्न हिस्सों के आमजन द्वारा यह संगठन गठित किया गया है
हम सभी का एक ही उद्देश्य है प्रत्येक भारतीय को सम्मानजनक व  गुणवत्ता पूर्ण जीवन जीने का पूर्ण अधिकार हो, यह तभी संभव हो सकता है जब सभी के पास रोजगार हो व सभी को रोजगार के समान अवसर प्राप्त हो। यह संगठन रोजगार की व्यापक उपलब्धता हेतु प्रतिबद्ध व अग्रसर है।  यही हमारे संविधान और गठन  की मूल भावना है।  

1 – विभिन्न देशों के रोज़गार मॉडल की तर्ज़ पर भारत रोज़गार मॉडल में बदलाव करने चाहिए l
2 – किसान कार्ड की तरह ही आधार कार्ड, पेन कार्ड, पासपोर्ट को आधार बना कर बेरोजगार लोन की शुरुआत करनी चाहिए l
3 – निर्यात नीति में बदलाव करने चाहिए ताकि लघु उधोगों को बढ़ावा मिल सके l
4 – नये नीति निर्माण – बड़ी कम्पनियों के कर और कर्ज की अदायगी को माफ ना किया जाये, इस राजस्व की रकम को नये उधोगों के निर्माण में लगाया जाये
5 – किसानो को भी कर्ज़ माफ़ी की जगह फसलो के बेहतर दाम दिये जाये l
6 – उपलब्ध काम का बराबर बंटवारा हो  l
7 – सरकार द्वारा आज से 12 साल बाद किस काम की उपयोगिता होंगी इसे देखते हुए R&D करनी चाहियें और इसीके अनुसार शिक्षा छेत्र में बदलाव होने चाहिए
8 – राष्ट्र निर्माण के लिए राष्ट्रीय रोजगार नीति

इन मुद्दे पर कार्य करने से क्या बदलाव होंगे

– बेरोजगारी कम होगी
– करदाताओं की संख्या बढ़ेगी जिससे देश का विकास होगा
– गरीबी में कमी आयेगी
– जीवन यापन स्तर में सुधार होगा
– उत्पादन में बढ़ोतरी होगी

बेरोजगारी भत्ता क्यों ?

यदि हमारी सरकार सभी को रोजगार देने में असफल है तो यह संवैधानिक तौर पर उनकी जवाबदेही होनी चाहिए कि वो सभी को बेरोजगारी भत्ता प्रदान करे !

Help Us With Your Support

Open chat